High Uric Acid में पपीता कैसे हो सकता है लाभदायक?

Food Lifestyle

papaya juice reduce high uric acid, Know symptoms causes treatment, home remedy पपीते का असली स्वाद पका होने पर ही मिलता है. यह गर्भवती महिलाओं के लिए जितना खतरनाक है उतना ही फायदेमंद है यूरिक एसिड वालों के लिए. स्वाद और स्वास्थ्य के लिए मशहुर पपीते में कई गुण हैं. यूरिक एसिड वालों के लिए इसका जूस रामबाण से कम नहीं है.

क्या है यूरिक एसिड

यूरिक एसिड एक ऐसी बीमारी है जिसके शुरूआती लक्षण बिल्कुल आम होते हैं. आपके हाथ, पैर में उठने वाले दर्द और बारबार लग रही थकान ही इसकी मुख्य वजह है. जिसे शुरूआत में हम आम मानकर नजरअंदाज कर देते हैं. इसकी पहचान तब होती है जब यह आपका साथी बनने लगता है मतलब यह दर्द आपको कई दिनों तक लगातार परेशान करने लगता है |

जब हम प्यूरिन युक्त चीजें खाते हैं तो यह हमारे शरीर में पहुंचता है. इसके अलावा इसका निर्माण शरीर की कोशिकाओं द्वारा भी होता है. यही पयूरिन बाद में यूरिक एसिड में बदल जाता है. हालांकि, इसकी अधिकतर मात्रा रक्त में मिल जाती है. वहीं शेष यूरिन के माध्यम से शरीर से बाहर आ जाती है.

यूरिक एसिड बढ़ने की स्थिति में हमारा शरीर जरूरत से ज्यादा प्यूरिन को तोड़कर यूरिक एसिड का निर्माण करने लगता है और नहीं तो इसे हमारा रक्त सही तरीके से फिल्टर नहीं कर पाता है. जिसके वजह से यह शरीर के अंदर रहकर ही बढ़ता चला जाता है.

बढ़े हुए यूरिक एसिड से होने वाली गंभीर बीमारी

बढ़े हुए यूरिक एसिड से गठिया, आर्थराइटिस, जोड़ों के दर्द, हाई ब्लड प्रेशर, हार्ट डिजीज, किडनी में स्टोन या फेल होना आदि हो सकती है.

यूरिक एसिड को कंट्रोल करे पपीता का जूस

– कच्चा पपीता एंटी-ऑक्सीडेंट्स और एंटी-इंफ्लामेट्री गुणों से भरपूर होता है. जिसके कारण यह मरीजों के जोड़ों में दर्द से राहत दिलाता है.

– आपको बता दें कि यूरिक एसिड के मरीजों को भोजन में विटामिन सी की मात्रा भी लेने की सलाह दी जाती है. पपीता में विटामिन सी की प्रचुर मात्रा भी पायी जाती है जो मरीजों के लिए लाभदायक हो सकती है.

– इसके अलावा बढ़े हुए यूरिक एसिड के कारण ऐसा पाया गया है कि कई मरीजों का वजन बढ़ने लगता है या वजन बढ़ने के कारण यूरिक का भी खतरा बढ़ जाता है. दोनों ही हालातों में पपीता में पाए जाने वाले फाइबर की मात्रा उनके लिए लाभकारी साबित हो सकती है.

– इसके लिए आप प्रतिदिन एक ग्लास पपीते का जूस पिएं. डॉक्टरों का मानना है कि इससे बढ़े हुए यूरिक एसिड को कंट्रोल किया जा सकता है.

– पपीते के अलावा अदरक का जूस, गाजर का जूस, चुकंदर का जूस, खीरे का जूस आदि पीने से भी यूरिक एसिड को कंट्रोल किया जा सकता है.

– वहीं, प्रतिदिन वजन कम करने वाले योग करें और वैसे आहारों का सेवन करना चाहिए. वजन कम करने के लिए प्रतिदिन 2-3 लीटर पानी पिएं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *