जवानों का बलिदान व्‍यर्थ नहीं जाएगा, देंगे मुंहतोड़ जवाब: PM Narendra Modi

Lifestyle Media Trending World
View this post on Instagram

At the Def Expo 2020 held in #Lucknow.

A post shared by Narendra Modi (@narendramodi) on

गलवान घाटी में Indian Soldiers के शहीदों के मुद्दे पर PM Modi ने बोलते हुए कहा कि जवानों का बलिदान नहीं होगा। उकसाने पर मुंहतोड़ जवाब देंगे। India शांति चाहता है हम किसी को उकसाते नहीं हैं लेकिन हमको जवाब देना आता है। PM Modi ने कहा कि भारत शांति चाहता है, वीरता हमारे देश के चरित्र का हिस्सा है। हमारे जवानों ने मारते-मारते शहादत दी, जवानों की बलि व्यर्थ नहीं होगी। कोई भी देश भ्रम में ना रहे, उकसाने पर मुंहतोड़ जवाब देंगे। India किसी Country को उकसाता नहीं है, हमें अपने Soldiers पर गर्व है।

PM Modi ने कहा कि हमने हमेशा पड़ोसियों के साथ काम किया है। इस बात की हमेशा कोशिश की जाती है कि मतभेद विवाद का आधा हो ना हो। लेकिन हम अपनी संप्रभुता, अखंडता के साथ समझौते नहीं करेंगे।आज Corona के मुद्दे पर मुख्य पाठ अधिकारियों के साथ Second Day की बैठक से पहले PM Modi ने ये बात कही। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि सभी मुख्‍य कार्यकारी अधिकारियों के साथ शहीद जवानों को श्रद्धांजलि देते हुए 2मिनट का मौन भी रखा।

इससे पहले रक्षा मंत्री Rajnath Singh ने चीनी सेना के साथ हिंसक झड़प में शहीद हुए India Soldiers को श्रद्धांजलि देते हुए बुधवार को कहा कि गलवान घाटी में सैनिकों को गंवाना बहुत परेशान करने वाला और दु: खद है। सिंह ने ट्वीट किया कि Indian Soldiers ने कर्म का पालन करते हुए अदम्य साहस और वीरता का प्रदर्शन किया और अपनी जान न्योछावर कर दी।

उन्होंने Tweet किया, अपने अपने देश अपने Soldiers की बहादुरी और बलिदान को कभी भूलेगा नहीं। शहीद सैनिकों के परिवारों के प्रति मेरी संवेदनाएं हैं। देश इस मुश्किल समय में उनके साथ कंधे से कंधा मिलाकर खड़ा है। हमें India के वीरों की साहसुरी और साहस पर गर्व है। ”

गौरतलब है कि पूर्वी Ladakh की गलवान घाटी में सोमवार रात चीनी सैनिकों के साथ हिंसक झड़प में भारतीय सेना के एक कर्नल सहित 20 Soldiers शहीद हो गए।

Foreign Minister ने मंगलवार को एक बयान में कहा कि पूर्वी Ladakh में India और China की सेनाओं के बीच हिंसक झड़प क्षेत्र में ‘‘यथास्थिति को एकतरफा तरीके से बदलने के चीनी पक्ष के प्रयास का 'कारण हुआ। विदेश मंत्रालय(Foreign Minister) ने कहा कि पूर्व में शीर्ष स्तर पर जो सहमति बनी थी, अगर China पक्ष ने गंभीरता से उसका पालन किया, तो दोनों पक्षों को हुए नुकसान से बचा जा सकता था।

पूर्वी Ladakh के पैंगॉन्ग सो, गलवान घाटी, डेमचोक और दौलत बेग ओल्डी इलाके में India और China सेना के बीच गतिरोध चल रहा है। पैंगॉन्ग सो सहित कई इलाके में China Force ने सीमा का अतिक्रमण किया है।

India Force ने चीनी सेना की इस कार्रवाई पर कड़ी आपत्ति जताई है और क्षेत्र में अमन-चैन के लिए तुरंत उसके पीछे हटने की मांग की है। गति प्रतिरोध दूर करने के लिए पिछले कुछ दिनों में दोनों ओर से कई बार बातचीत भी हुई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *